1928 में भारत का संविधान किसने बनाया : Indian Constitution

दोस्तों, आपको जानकारी होगी कि हमारा देश लगभग 200 वर्षों तक अंग्रेजों के कब्जे में रहा हमारे देश के वीरों के द्वारा कई संघर्ष करने के पश्चात हमारा देश आजाद हुआ और एक संविधान का भी निर्माण किया गया। आज 1928 में भारत का संविधान किसने बनाया पोस्ट के माध्यम से यह बताया जा रहा है, कि भारत का पहला संविधान बनाने का प्रयास कब और किन हालातो में किया गया था।

ब्रिटिश सरकार द्वारा साइमन कमीशन का गठन 1927 में किया गया था। इस कमीशन के नियुक्ति के साथ ही भारत सचिव ने भारतीय नेताओं को यह चुनौती दे दी की यदि भारतीय विभिन्न दलों और संप्रदायों की सहमति से एक संविधान तैयार कर लेते हैं, तो इंग्लैंड सरकार उस पर गंभीरता से विचार करेगी।

भारतीयों ने इस चुनौती को स्वीकार करके भारत के संविधान तैयार करने में लग गए। इस समय भारतीय नेताओं ने इस चुनौती को सहर्ष स्वीकार किया एवं मिलजुल कर भारतीय संविधान का एक प्रारूप तैयार करने में पूरे मन से लग गए।

नेहरू समिति ( Nehru committee)

संविधान का प्रारूप तैयार करने के लिए मोतीलाल नेहरू की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया गया, जिसका कार्य भारतीय संविधान का प्रारूप तैयार करना था। इस समिति के सचिव के पद पर जवाहरलाल नेहरू थे ।

इस समिति को नेहरू समिति के नाम से भी जाना जाता है। नेहरू समिति ने जून से अगस्त 1928 तक संविधान के प्रारूप बनाने पर काम किया और भारत के एक संविधान का प्रारूप तैयार किया।

इस समिति में कुल 9 सदस्य थे, जिनमें से कुछ का नाम निम्नलिखित है : –

• मोतीलाल नेहरू,

• अध्यक्ष सर अली इमाम ,

• तेज बहादुर सप्रू ,

• सुभाष चंद्र बोस,

यह सभी नेहरू समिति के सदस्य थे। इन सभी के द्वारा भारतीय संविधान का प्रारूप तैयार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई गई है।

नेहरू रिपोर्ट का प्रस्ताव ( proposals of Nehru report)

(1).भारत को एक डोमिनियन स्टेट राज्य का दर्जा प्रदान किया जाए।

• केंद्रीय स्तर पर द्विसदनात्मक प्रणाली की स्थापना की जाए एवं कार्यकारिणी पूरी तरह से व्यवस्थापिका सभा के प्रति उत्तरदायी बनी रहे।

• समस्त दायित्व भारतीय प्रतिनिधियों को सौंप दिया जाए।

(2). भारत में संघीय ढांचे की व्यवस्था की जाए।

• अवशिष्ट शक्तियां केंद्र को सौंप दी जाए।

(3). सभी चुनाव क्षेत्रीय आधार पर किया जाए।

• सांप्रदायिक प्रतिनिधित्व समाप्त हो एवं निर्वाचन वयस्क मताधिकार के आधार पर किया जाए।

(4). नेहरू रिपोर्ट में यह कहा गया कि राज्य का अपना कोई भी धर्म नहीं होगा अर्थात धर्मनिरपेक्ष राज्य की स्थापना किया जाना चाहिए।

(5). स्त्रियों और पुरुषों को समान रूप से नागरिक अधिकार देने का प्रस्ताव किया गया था।

(6). नेहरू रिपोर्ट में सर्वोच्च न्यायालय की स्थापना का भी प्रस्ताव शामिल था।

(7). नेहरू रिपोर्ट में किसी भी समुदाय के लिए अलग मतदाताओं या अल्पसंख्यकों के लिए वोट प्रदान करने हेतु प्रावधान नहीं किया गया था।

(8). समिति द्वारा दिए गए रिपोर्ट में संघीय शासन का प्रस्ताव दिया गया था। इस संघीय व्यवस्था में अवशिष्ट शक्तियां केंद्र को दी जानी थी।

नेहरू रिपोर्ट का विरोध

इस समिति द्वारा दिए गए रिपोर्ट का जिन्ना और मुस्लिम लीग के अन्य नेताओं के द्वारा पुरजोर विरोध किया गया। इसके पीछे मूल कारण किया था कि इस रिपोर्ट में सांप्रदायिक आधार पर प्रतिनिधित्व का प्रावधान नहीं किया गया था।

कांग्रेस के कुछ लोग डोमिनियन स्टेट की बात से भी असंतुष्ट थे। यह पूर्ण स्वराज को नेहरू रिपोर्ट में शामिल करना चाहते थे।

कांग्रेस, मुस्लिम लीग और अन्य राजनेताओं के द्वारा भी नेहरू रिपोर्ट के संदर्भ में कुछ और असहमतियां प्रकट की गई थी।

पूर्ण सहमति नहीं होने के कारण ब्रिटिश सरकार द्वारा नेहरू रिपोर्ट को और अस्वीकृत कर दिया गया।

ब्रिटिश सरकार के द्वारा नेहरू रिपोर्ट को स्वीकृत तो नहीं किया गया, परंतु इसने अनेक महत्वपूर्ण प्रवृत्तियों को जन्म दे दिया।

सांप्रदायिकता की भावना जो सबके अंदर बनी हुई थी, इसके पश्चात यह भावनाएं उभर कर सामने आने लगी।मुस्लिम लीग और हिंदू महासभा के द्वारा इस सांप्रदायिक भावना को फैलाने में किसी प्रकार की कोई कसर नहीं छोड़ी गई।

वर्ष 1928 ई के इस घटनाओं ने पुनः गांधी जी को देश और कांग्रेस के राजनीति के शीर्ष पर बैठा दिया। वह राष्ट्रीय स्वतंत्रता संग्राम के निर्विवाद नेता बनकर उभर गए।

नेहरू रिपोर्ट के सांप्रदायिक समझौता में सभी समुदायों के संयुक्त निर्वाचन समूह का प्रस्ताव लाया गया था।वर्ष 1928 में नेहरू समिति के द्वारा तैयार किया गया संविधान का प्रारूप संविधान निर्माण करने का यह पहला भारतीय प्रयास था।

1928 में भारत का संविधान किसने बनाया पोस्ट से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तरों को अवश्य देखें।

FAQ:- पोस्ट से संबंधित प्रश्न उत्तर

(1). 1928 में भारत का संविधान किसने बनाया था?

उत्तर:- 19 मई 1928 को सर्वदलीय सम्मेलन में संविधान का मसौदा तैयार करने के लिए एक समिति का गठन किया गया था। इस समिति के कुछ उल्लेखनीय सदस्य हैं, जैसे मोतीलाल नेहरू (अध्यक्ष) सर इमाम अली, तेज बहादुर सप्रू एवं सुभाष चंद्र बोस। इस समिति के द्वारा भारतीय संविधान का मसौदा तैयार कर भारत के संविधान बनाने का पहला प्रयास किया गया था।

(2). भारत का प्रथम संविधान कब बना?

उत्तर:- भारत का प्रथम संविधान को संविधान सभा के द्वारा 26 नवंबर 1949 को अंगीकृत किया गया एवं 26 जनवरी 1950 को पूरे भारत पर लागू कर दिया गया। भारतीय संविधान में सरकार के संसदीय स्वरूप की व्यवस्था की गई है। केंद्रीय कार्यपालिका का संवैधानिक प्रमुख है, अर्थात भारत के राष्ट्रपति देश के प्रमुख हैं।

(3). सबसे पहले संविधान किस देश में लागू हुआ था?

उत्तर:- सबसे पहला संविधान संयुक्त राज्य अमेरिका का है।इस संविधान का निर्माण वर्ष 1987 में हुआ था। यह विश्व का प्रथम लिखित संविधान भी है।

(4). क्या अंबेडकर के द्वारा भारतीय संविधान को लिखा गया था?

उत्तर:- अंबेडकर ने संविधान बनाने के लिए 7 सदस्यों का एक प्रारूप समिति का गठन की थी। इस समिति के द्वारा 395 प्रावधानों वाले एक मसौदा तैयार किया गया जो भारत के संविधान का स्वरूप धारण किया।

(5). भारतीय संविधान को बनाने में कितना खर्च हुआ था?

उत्तर:- संविधान सभा के द्वारा 26 नवंबर 1949 को संविधान को अंगीकृत कर लिया गया एवं 26 जनवरी 1950 को भारत पर संविधान पूर्ण रूप से लागू हो गया। इस संविधान को बनाने में 2 वर्ष 11 महीने 18 दिन का समय लगा था। इसे बनाने में कुल खर्च 64 लाख रुपए हुए थे।

दोस्तों, उम्मीद है कि इस 1928 में भारत का संविधान किसने बनाया पोस्ट में दी गई जानकारियां पढ़कर आपको अच्छी लगी होगी। ऐसी ही और जानकारी हासिल करने के लिए इस पोस्ट को सब्सक्राइब करें तथा टेलीग्राम ग्रुप को भी ज्वाइन कर लें। इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया के जरिए अवश्य शेयर करें ताकि उन्हें भी इसका लाभ प्राप्त हो सके।

अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद।💐💐

Read also:- 

Bharat ke pratham Rashtrapati kaun the : जानें इनके बारे में विस्तार से

समानता का अधिकार( अनुच्छेद 14 से 18 )क्या है ? जानें

संविधान 26 जनवरी 1950 को ही क्यों लागू हुआ

मानव अधिकार /मानवाधिकार क्या है?विस्तृत जानकारी प्राप्त करें

भारतीय संविधान की विशेषताएं के बारे में विस्तार से जाने

 

Discover more from teckhappylife.com

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading