Bharat ke pratham Rashtrapati kaun the : जानें इनके बारे में विस्तार से

 दोस्तों, Bharat ke pratham Rashtrapati kaun the : भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉक्टर राजेन्द्र प्रसाद बने थे। 26 नवंबर 1949 को हमारा संविधान बनकर तैयार हुआ था और 26 जनवरी 1950 को पूरे भारत पर लागू हो गया । 26 जनवरी 1950 को ही हमारे देश को अपना पहला राष्ट्रपति भी मिला था।

 राष्ट्रपति का पद भारत देश का सबसे शीर्ष पद है ,और देश का राष्ट्रपति देश का प्रथम व्यक्ति माना जाता है।  डॉ राजेन्द्र प्रसाद देश के उन व्यक्तियों में से एक थे, जिन्होंने आजादी की लड़ाई में अपनी अहम योगदान दिए थे।

डॉ. राजेंद्र प्रसाद अपने जीवन के अंतिम कुछ समय सेवानिवृत्ति के बाद पटना के सदाकत आश्रम में बिताए थे। इनका 28 फरवरी, 1963 को देहांत हो गया।

भारत के प्रथम राष्ट्रपति के महत्वपूर्ण तथ्य

✓वर्ष 1950 में जब भारत एक गणतांत्रिक देश बना, तो डाक्टर राजेंद्र प्रसाद को संविधान सभा द्वारा देश के प्रथम राष्ट्रपति के रूप में चुना गया। डॉ राजेंद्र प्रसाद अध्यक्ष के रूप में पदाधिकारीयों के लिए गैर-पक्षपात और स्वतंत्रता की परंपरा स्थापित की और कांग्रेस पार्टी की राजनीति से सेवानिवृत्त हुए।

✓राज्य के एक औपचारिक प्रमुख होने के बावजूद, डॉ राजेंद्र प्रसाद ने भारत में शिक्षा के विकास को प्रोत्साहित किया और नेहरू सरकार को कई अवसरों पर सलाह भी प्रदान की ।

✓1957 में डाक्टर राजेंद्र प्रसाद को पूनः  राष्ट्रपति चुना गया। ये एक मात्र ऐसे राष्ट्रपति हैं, जो की दो पूर्ण कार्यकाल के लिए राष्ट्रपति बने थे। डॉक्टर राजेंद्र  प्रसाद के द्वारा कार्यालय में सबसे लंबे समय तक कार्य किए गए हैं, लगभग 12 वर्षों तक।

✓डाक्टर राजेंद्र प्रसाद ने अपने कार्यकाल समाप्त होने के पश्चात, कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया और सांसदों के लिए एक नए दिशानिर्देश स्थापित किए, जिनका वर्तमान में भी पालन किया जाता है।

✓भारत के प्रथम राष्ट्रपति के रूप में डॉ. राजेन्द्र प्रसाद की संवैधानिक नियुक्ति 26 जनवरी 1950 को हुई।इसी दिन हमारा संविधान भी लागू हुआ था।

✓इसके पश्चात 13 मई 1952 को इन्होंने भारत के राष्ट्रपति पद की शपथ ली। आगे दूसरी बार इन्होंने राष्ट्रपति के चुनाव में जीत हासिल की और वर्ष 1957 में फिर से राष्ट्रपति पद की शपथ ली । इस प्रकार उन्हें 1957 में दूसरी बार राष्ट्रपति बनने का अवसर प्राप्त हुआ।

✓ऐसा कहा जाता है कि डॉ राजेंद्र प्रसाद भारत के राष्ट्रपति पद के रूप में तीसरी बार भी चुने जाते परन्तु चुने जाने से पहले ही इन्होंने अपने अवकाश की घोषणा कर दी। इसलिए डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन को देश का दूसरा राष्ट्रपति के रूप में चुना गया जो की डॉ राजेंद्र प्रसाद के कार्यकाल में उपराष्ट्रपति के पद पर कार्यरत रहे थे।

✓इतना महत्वपूर्ण पद पर आसीन होने के अतिरिक्त , डॉ राजेंद्र प्रसाद एक प्रसिद्ध प्रोफेसर और कार्यकर्ता भी थे। उनकी उपलब्धियों की सूची लंबी है ,यहीं समाप्त नहीं हो सकती है।

✓भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद का एक सफल कानूनी करियर भी था। इन्होंने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सदस्य के रूप में भारत के मुक्ति संग्राम में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया था।

✓ डॉ राजेंद्र प्रसाद भारत के राष्ट्रपति बनने से पहले 1946 में राष्ट्रीय सरकार के खाद्य और कृषि मंत्री पद पर  कार्यरत रहे थे।

भारत के प्रथम राष्ट्रपति कौन थे?

भारत देश के प्रथम राष्ट्रपति के रूप में नियुक्त डॉ राजेंद्र प्रसाद को किया गया था। यह एकमात्र ऐसे व्यक्ति थे जिन्होंने भारत के राष्ट्रपति के रूप में दो कार्यकाल तक कार्यरत रहे। इन्होंने 26 जनवरी 1950 से 13 मई 1962 तक कुल 12 वर्षों, 107 दिनों तक भारत के राष्ट्रपति के पद पर कार्यरत रहे ।

डॉ राजेंद्र प्रसाद अर्थशास्त्र में एम.ए .किए हुए थे। इन्होंने बिहार के मुजफ्फरपुर में स्थित लंगट सिंह कॉलेज में कुछ समय तक एक अंग्रेजी प्रोफेसर के रूप में काम किया और इसके बाद इस कॉलेज के प्राचार्य पद पर नियुक्त हो गए। बाद में डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद ने कानून का अध्ययन करने के लिए कोलकाता के रिपन कॉलेज में भाग लेने हेतु स्कूल छोड़ दिया था।

Bharat ke pratham Rashtrapati kaun the

प्रश्न (1).भारत में लगातार दो बार राष्ट्रपति कौन बने?

उत्तर:- डॉ राजेंद्र प्रसाद देश में सबसे लंबे समय, 12 वर्षों तक देश के राष्ट्रपति पद पर कार्यरत रहे और उनका यह रिकॉर्ड अभी तक नहीं टूटा है। इसलिए डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद देश के पहले राष्ट्रपति और लगातार दो बार राष्ट्रपति के पद पर निर्वाचित होने वाले एकमात्र व्यक्ति हैं।

प्रश्न (2).1947 में प्रथम राष्ट्रपति कौन थे?

 उत्तर:- डॉ राजेन्द्र प्रसाद (3 दिसम्बर 1884 – 28 फरवरी 1963) भारत के प्रथम राष्ट्रपति के पद पर नियुक्त हुए।

✓ये एक महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानी भी थे।

✓राजेंद्र प्रसाद भारतीय स्वाधीनता आंदोलन के प्रमुख नेताओं में से भी एक थे।

✓ये भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष के रूप में प्रमुख भूमिका निभाई।

✓ भारत के संविधान सभा के अध्यक्ष के रूप में भी अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया।

प्रश्न (3).भारत में कितने राष्ट्रपति हैं?

उत्तर:-  26 जनवरी 1950 को भारतीय संविधान को अपनाने के साथ जब भारत को एक गणतांत्रिक देश घोषित किया गया था तब इस पद की स्थापना के बाद से भारत के 15 राष्ट्रपति बने हैं। इन पंद्रह के अलावे, तीन कार्यवाहक राष्ट्रपति भी थोड़े समय के लिए पद पर आसीन हुए हैं। अभी वर्तमान में द्रौपदी मुर्मू जी भारत के राष्ट्रपति के रूप में कार्यरत हैं।

प्रश्न (4).राष्ट्रपति कितने साल तक रहता है?

उत्तर:- भारत के राष्ट्रपति का चुनाव भारतीय संविधान के अनुच्छेद 55 के अनुसार आनुपातिक प्रतिनिधित्व प्रणाली के एकल संक्रमणीय मत पद्धति के द्वारा होता है। राष्ट्रपति के निर्वाचन मंडल में भारत के संसद के दोनो सदनों (लोक सभा और राज्य सभा) तथा साथ ही राज्य विधायिकाओं (विधान सभाओं) के निर्वाचित सदस्य शामिल होते हैं। इस निर्वाचन मंडल के द्वारा 5 वर्ष के लिए भारत के राष्ट्रपति को चुना जाता है।

प्रश्न (5).भारत में राष्ट्रपति क्यों है?

उत्तर:- भारतीय संविधान के द्वारा राष्ट्रपति को भारत के संविधान और उसके कानून के शासन की रक्षा और सुरक्षा करने की जिम्मेदारी और अधिकार प्राप्त है। निरपवाद रूप से, संविधान की कार्यकारी या विधायिका संस्थाओं द्वारा की गई कोई भी कार्रवाई राष्ट्रपति की सहमति के बिना कानून नहीं बन सकती है।

प्रश्न (6).राष्ट्रपति को अपने पद से कौन हटा सकता है?

उत्तर:- राष्ट्रपति को पद से हटाने की प्रक्रिया को महाभियोग कहा जाता है। महाभियोग की प्रक्रिया अत्यंत जटिल प्रक्रिया है। संसद के दोनों सदनों में यह प्रस्ताव पारित होने के पश्चात ही राष्ट्रपति को पद से हटाया जा सकता है। 

प्रश्न (7).देश का पहला व्यक्ति कौन है?

उत्तर:- भारत के राष्ट्रपति को भारत के प्रथम नागरिक के रूप में कई सारे शक्तियां और जिम्मेदारियाँ प्राप्त हैं। हमारे देश का प्रथम नागरिक न केवल भारतीय राज्य का प्रमुख होता है, बल्कि उसे राष्ट्र की रक्षा सेना का सर्वोच्च कमांडर भी नियुक्त किया जाता है।

प्रश्न (8).हमारे राष्ट्रपति कहां रहते हैं?

उत्तर:- विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश के राष्ट्रपति का आवास, राष्ट्रपति भवन, भारत की शक्ति, इसकी लोकतांत्रिक परंपराओं और पंथनिरपेक्ष स्वरूप का प्रतीक है।

प्रश्न (9).भारत में लगातार दो बार राष्ट्रपति कौन बने?

उत्तर:- डॉ राजेंद्र प्रसाद, देश में सबसे लंबे समय, 12 वर्षों तक देश के राष्ट्रपति के पद पर कार्यरत रहे और इनका यह रिकॉर्ड अभी तक नहीं टूटा है। डॉ. राजेन्द्र प्रसाद, देश के पहले राष्ट्रपति के रूप में नियुक्त होने वाले और लगातार दो बार राष्ट्रपति के पद पर निर्वाचित होने वाले एकमात्र व्यक्ति हैं।

प्रश्न (10).क्या मैं भारत का राष्ट्रपति बन सकता हूं?

उत्तर:- भारतीय संविधान के अनुच्छेद 58 के अनुसार, के राष्ट्रपति बनने के लिए कुछ शर्तें निर्धारित की गई है यदि यह शर्तें कोई व्यक्ति पूरा करता है तो वह भारत का राष्ट्रपति बन सकता है। शर्तें निम्नलिखित हैं:-

✓ वह भारत का नागरिक  हो,

✓पैंतीस वर्ष की आयु पूरी कर चुका हो

✓ लोक सभा के सदस्य के रूप में चुनाव के लिए योग्य हो।

प्रश्न (11).अनुच्छेद 55 में क्या होता है?

उत्तर:- भारतीय संविधान के अनुच्छेद 55 में राष्ट्रपति के निर्वाचन के तरीके के बारे में वर्णन किया गया है। संविधान के अनुच्छेद 54 के तहत भारत में राष्ट्रपति के चुनाव के लिए एक इलेक्टोरल कॉलेज का गठन किया जाता है

इसमें संसद के दोनों सदनों के चुने हुए सदस्यों और राज्यों के विधानसभा में चुने गए सदस्य शामिल होते हैं। इसमें  दोनों संसद के मनोनीत सदस्य और राज्य के विधान परिषदों के सदस्य शामिल नहीं होते हैं।

प्रश्न (12).भारत का दूसरा नागरिक कौन होता है?

उत्तर:- देश का दूसरा नागरिक उपराष्ट्रपति कहलाता है। वर्तमान में भारत के उपराष्ट्रपति के पद पर जगदीप धनखड़  आसान हैं ।इस तरह  जगदीप धनखड़ देश के दूसरे नागरिक हैं। भारत में प्रधानमंत्री देश का तीसरा नागरिक कहलाता है।

प्रश्न (13).भारत के पहले मुस्लिम राष्ट्रपति कौन थे?

उत्तर:- डॉ जाकिर हुसैन भारत के पहले मुस्लिम राष्ट्रपति के पद पर नियुक्त हुए थे और इनकी मृत्यु राष्ट्रपति के पद पर कार्यरत रहते हुए हुई थी। 

उम्मीद है कि यह पोस्ट आपको अच्छी लगी होगी। ऐसे ही और जानकारी हासिल करने के लिए इस वेबसाइट के साथ हमेशा बने रहे।

अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद। 💐💐

भारत के राष्ट्रपति कौन हैं जानें इनके बारे में विस्तार से

भारतीय संविधान की विशेषताएं के बारे में विस्तार से जाने

भारतीय संविधान की प्रस्तावना

मौलिक अधिकार (Fundamental rights )के बारे में जाने

Fundamental duties in Hindi मौलिक कर्तव्य के बारे में जाने

मानव अधिकार /मानवाधिकार क्या है?विस्तृत जानकारी प्राप्त करें

समानता का अधिकार( अनुच्छेद 14 से 18 )क्या है ? जानें

संविधान 26 जनवरी 1950 को ही क्यों लागू हुआ

Sharad Purnima kab hai 2023:शरद पूर्णिमा की रात पर चंद्र ग्रहण की साया आसमान से नहीं बरसेगा अमृत

Chandra Grahan 2023 in India date and time साल का अंतिम चंद्र ग्रहण शरद पूर्णिमा की रात ,जाने सूतक का समय और प्रभाव

 

Discover more from teckhappylife.com

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading