bhartiya sanvidhan mein kitne anuchchhed hai : भारतीय संविधान में कुल कितनी धाराएं हैं

दोस्तों, भारत का संविधान दुनिया का सबसे लंबा और लिखित संविधान है।इसे 26 जनवरी 1950 को संपूर्ण रूप से लागू कर दिया गया था। इस पोस्ट में हम जानेंगे कि bhartiya sanvidhan mein kitne anuchchhed hai .भारतीय संविधान में कुल कितनी धाराएं हैं, के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करेंगे। इसलिए इस पोस्ट को अंत तक अवश्य पढ़ें।

भारतीय संविधान की धाराओं के बारे में जानें 

दोस्तों, जब हमारे देश के संविधान की रचना हुई थी, तब इसमें कुल 395 अनुच्छेद या धाराएं थी। मूल अनुच्छेद या धाराओं की संख्या संविधान में आज भी 395 ही है।

Table of Contents

हालांकि समय-समय पर हो रहे संसोधनों के कारण आज अनुच्छेदों की संख्या बढ़कर 395 से 448 हो गई है। लेकिन यह अनुच्छेद मूल अनुच्छेद के ही विस्तार के रूप में स्थापित किए गए हैं।

उदाहरण स्वरूप केंद्र सरकार ने जब स्वर्ण सिंह समिति की सिफारिश को स्वीकार करते हुए 42वां संविधान संशोधन अधिनियम 1976 लागू किया, तो संविधान के अनुच्छेद 51 में एक नया अनुच्छेद 51 (क) जोड़ दिया एवं 10 मूल कर्तव्य संविधान में स्थापित कर दिए गए।

इसी प्रकार मूलतः संविधान में 22 भाग व आठ अनुसूचियां थी। आज संविधान में भागों की संख्या 22 से बढ़कर 25 हो गई है, और अनुसूचियों की संख्या 8 से बढ़कर 12 हो गई है।

Read more:-

• भारत का संविधान किसने लिखा और कितने दिनों में लिखा

1928 में भारत का संविधान किसने बनाया : Indian Constitution

Bhartiya sanvidhan kab lagu hua tha : भारत का संविधान कब लागू हुआ था

Bharat ka sanvidhan banane mein kitna samay laga tha : भारत का संविधान कितने दिन में बना था

FAQ:- पोस्ट से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न- उत्तर

(1).भारतीय संविधान में कितने अनुच्छेद हैं?

उत्तर:- जब हमारे देश के संविधान की रचना हुई थी, तब इसमें कुल 395 अनुच्छेद या धाराएं थी। मूल अनुच्छेद/ धाराओं की संख्या भारतीय संविधान में आज भी इतनी ही है। हालांकि समय-समय पर संशोधन होने के वजह से इसकी संख्या में वृद्धि हो गई है। यह संख्या 395 से बढ़कर 448 हो गई है ,परंतु यह मूल अनुच्छेद के ही विस्तार के रूप में स्थापित किए जाते हैं।

( 2). अनुच्छेद 1 से 4 में क्या है?

उत्तर:- भारतीय संविधान के भाग एक में अनुच्छेद 1 से 4 में राज्यों के संघ से संबंधित कानून और संघ की स्थापना से संबंधित कानून सम्मिलित है। यह भारत के संघ के भीतर राज्यों की सीमाओं को बनाने एवं नाम बदलने तथा बदलने के कानून से भी संबंधित है।

(3). भारतीय संविधान के अनुच्छेद एक में क्या है?

उत्तर:-भारतीय संविधान के अनुच्छेद एक में कहा गया है कि इंडिया जो कि भारत राज्यों का एक संघ होगा।

(4). वर्ष 2023 में भारतीय संविधान में कुल कितने अनुच्छेद हैं?

उत्तर:- हम सभी जानते हैं कि हमारे देश का संविधान 26 जनवरी 1950 को संपूर्ण रूप से लागू हुआ था। तब इसमें 395 अनुच्छेद 22 भाग एवं 8 अनुसूचियां थी। लेकिन समय-समय पर होने वाले संशोधन के कारण से अब इनकी संख्याओं में वृद्धि हो गई है। जैसे कि वर्तमान में 448 अनुच्छेद 25 भाग एवं 12 अनुसूचियां हो गई है।

(5). हमारे देश के संविधान में सबसे महत्वपूर्ण अनुच्छेद कौन सा है?

उत्तर:- भारतीय संविधान के अनुच्छेद 32 सबसे महत्वपूर्ण अनुच्छेद है।

(6). संविधान में भारत का क्या नाम है?

उत्तर:- भारतीय संविधान का अनुच्छेद 1 के अनुसार इंडिया जो कि भारत है, राज्यों का एक संघ होगा। भारतीय संविधान में हमारे देश को दो नाम से वर्णित किया गया है, भारत और इंडिया।

(7). भारतीय संविधान के अनुच्छेद दो में क्या कहा गया है?

उत्तर:- भारतीय संविधान के अनुच्छेद दो में कहा गया है कि संसद नए राज्यों की स्थापना कर सकती है। या नए राज्यों को कानून के आधार पर भारत में स्थापित भी कर सकती है। संसद चाहे तो राज्य के सीमाओं को परिवर्तित कर सकती है।

(8) भारतीय संविधान कितने पेजों में लिखा गया है?

उत्तर:-भारतीय संविधान को 251 पेजों पर लिखा गया है। यह संविधान विश्व के लगभग सभी संविधानों को परख कर बनाया गया है। हमारे देश का संविधान 26 नवंबर 1949 को संविधान सभा के द्वारा पारित हुआ एवं 26 जनवरी 1950 को संपूर्ण रूप से लागू हो गया था।

(9). किसी भी संविधान का मुख्य कार्य क्या होता है?

उत्तर:- संविधान वह सत्ता है जो सर्वप्रथम एक सरकार बनाती है, जो किसी देश को सुचारू रूप से चलाने का काम करती है। संविधान का दूसरा काम यह स्पष्ट करना होता है कि समाज में निर्णय लेने की शक्ति किसके पास होगी। संविधान के द्वारा ही यह तय किया जाता है, कि सरकार का गठन किस प्रकार से किया जाएगा और सरकार के पास कौन-कौन सी शक्तियां होगी। वह किस प्रकार से देश में शासन व्यवस्था को संचालित करेगी ।

(10) भारतीय संविधान के पिता का क्या नाम है?

उत्तर:- भारतीय संविधान का पिता बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर को कहा जाता है।

(11). वर्ष 2023 में भारत में कुल कितनी भाषाएं हैं?

उत्तर:- भारत के संविधान में 22 भाषाओं को मान्यता प्रदान की गई है। इसे संविधान की आठवीं अनुसूची के अंतर्गत रखा गया है। यह भाषाएं निम्नलिखित है:-

असमिया, बांग्ला, बोडो, डोगरी, हिंदी, गुजराती, कश्मीरी, कन्नड़ ,कोंकणी, मलयालम, मैथिली, मराठी, मणिपुरी, नेपाली, पंजाबी, उड़िया, तमिल, तेलुगू, संस्कृत, सिंधी, संथाली एवं उर्दू ।

(12). भारतीय संविधान में वर्णित सात मौलिक अधिकार कौन-कौन से हैं?

उत्तर:- • समता/समानता का अधिकार,

• स्वतंत्रता का अधिकार,

• शोषण के विरुद्ध अधिकार,

• धर्म के स्वतंत्रता का अधिकार,

• संस्कृति और शिक्षा संबंधी अधिकार,

• कुछ विधियों की व्यावृत्ति ,

• संवैधानिक उपचारों का अधिकार,

(13). भारतीय संविधान के पिता भीमराव अंबेडकर के गुरु का क्या नाम था?

उत्तर:- बाबासाहेब अंबेडकर ने ज्योतिबा राव फुले को अपना गुरु माना था।

(14). वर्तमान में भारतीय संविधान में कुल कितने मूल अधिकार हैं?

उत्तर:- भारत के मूल संविधान में 7 मूल अधिकार दिए गए थे, लेकिन संपत्ति के अधिकार को 44 वां संविधान संशोधन के माध्यम से हटा दिया गया। अब केवल 6 मूल अधिकार ही है। संपत्ति के अधिकार को अब कानूनी अधिकार बना दिया गया है।

(15). भारतीय संविधान के अनुच्छेद 51 में क्या है?

उत्तर:- भारतीय संविधान का अनुच्छेद 51 (क) में मूल कर्तव्यों का वर्णन किया गया है। मूल संविधान में मूल कर्तव्यों का वर्णन नहीं किया गया था। इसे 42वां संविधान संशोधन अधिनियम 1976 में स्वर्ण सिंह समिति के सिफारिश पर सम्मिलित किया गया है।

दोस्तों, उम्मीद है की यह पोस्ट आपको अच्छी लगी होगी। ऐसी ही और जानकारी हासिल करने के लिए इस वेबसाइट को सब्सक्राइब करें तथा टेलीग्राम ग्रुप से भी जुड़ जाएं ।

इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी अवश्य शेयर करें, ताकि उन्हें भी इस पोस्ट का लाभ प्राप्त हो सके। इस वेबसाइट पर और भी अन्य प्रकार की जानकारियां पब्लिश की जाती है। यदि आप देखना चाहें तो teckhappylife.com पर visit कर सकते हैं।

अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद।💐💐

Read more:- 

भारतीय संविधान की प्रस्तावना

Samanta Ka Adhikar|समानता का अधिकार (अनुच्छेद 14-18) परिभाषा और महत्व

Bharat ka sanvidhan banane mein kitna samay laga tha : भारत का संविधान कितने दिन में बना था

bharat ke pratham pradhanmantri kaun the : भारत के प्रधानमंत्री की सूची, भारत के प्रथम प्रधानमंत्री कौन थे, जानें यहां विस्तार से

1 thought on “bhartiya sanvidhan mein kitne anuchchhed hai : भारतीय संविधान में कुल कितनी धाराएं हैं”

Leave a Reply

Discover more from teckhappylife.com

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading