chhath puja samagri list 2023 : छठ पूजा सामग्री लिस्ट देख लें,कहीं कुछ छूट न जाए

छठ पूजा चार दिनों तक चलने वाला पर्व होता है। यह एक बहुत ही महान पर्व माना जाता है। इस पर्व में बहुत ही स्वच्छता और सावधानी बरतें हुए पूजा संपन्न किया जाता है। ऐसे में हमें पूजा सामग्री के बारे में जानकारी अवश्य होनी चाहिए। इसलिए इस  chhath puja samagri list 2023  पोस्ट में सभी आवश्यक चीजों की नाम लिखी हुई है। आप इसे अंत तक अवश्य पढ़ें।

आपको जानकारी होगी कि छठ पर्व की पूजा में सामान की काफी लंबी लिस्ट होती है, और उनके बिना यह पूजा अधूरी मानी जाती है। इसलिए इस पूजा के आरंभ से ही हमें सभी आवश्यक सामानों को एकत्रित कर लेना चाहिए। इस पोस्ट में इसीलिए सभी आवश्यक सामानों के लिस्ट बनाए गए हैं, ताकि आपसे कहीं कुछ छूट न जाए।

chhath puja 2023

इस महापर्व की शुरुआत आज 17 नवंबर से हो रहा है। इस त्यौहार में घर के महिलाएं अपनी संतान के दीर्घायु के लिए 36 घंटे का निर्जला व्रत रखती हैं।यह त्योहार प्रमुख रूप से बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश में धूमधाम और बहुत ही जोर-शोर से मनाया जाता है।

दीपावली के बाद कार्तिक मास के शुक्ल षष्ठी को छठी मैया और सूर्य भगवान को अर्ध्य अर्पित किया जाता है। आज 17 नवंबर है। इस दिन से छठ महापर्व का शुरुआत हो गया है। आज छठ महापर्व का पहला दिन नहाए खाए का है।

इस दिन व्रती महिला पुरुष नदी में स्नान करके कद्दू चना और चावल का भोजन ,शुद्ध घी में बना हुआ ग्रहण करते हैं।इस पर्व का समापन 20 नवंबर के सुबह उषा अर्ध्य और पारण तथा प्रसाद वितरण के साथ हो जाएगा।

छठ पूजा को लेकर विशेष विधि-विधान होते हैं। इन विधि विधान का पालन करते हुए यह त्यौहार पूरे हर्ष और उल्लास के साथ सभी व्रती और उनके सदस्यों के द्वारा मनाया जाता है। हम आपको बताना चाहते हैं कि छठ पूजा की सामग्री आप आज से ही जुटाना स्टार्ट कर दें और ध्यान रखें ताकि कहीं कुछ छूट न जाए।

chhath puja samagri list 2023

नई साड़ी,

✓बस की दो बड़ी-बड़ी टोकरी ,

✓दूध और जल के लिए एक गिलास,

✓एक लोटा और थाली,

✓चम्मच,

✓पांच गन्ने पत्ते लगे हुए,

✓शकरकंद और सूथनी ,

✓पान और सुपारी,

✓हल्दी, मूली और अदरक का हरा पौधा,

✓बड़ा वाला मीठा डंभा नींबू ,

✓शरीफा,

✓केला ,

✓नाशपाती,

✓शकरकंदी,

✓पानी वाला नारियल,

✓सिंघाड़ा,

✓मिठाई ,

✓गुड ,

✓गेहूं,

✓चावल का आटा ,

✓चावल,

✓ठेकुआ,

✓सिंदूर,

✓कलावा,

✓दीपक,

✓शहद,

✓धूप ,

✓कुमकुम

छठ पूजा का पूरा कार्यक्रम

17 नवंबर शुक्रवार नहाए-खाए 
 18 नवंबर शनिवार  खरना
19 नवंबर रविवार  संध्या अर्घ्य 
 20 नवंबर सोमवार  ऊषा अर्ध्य 

छठ पूजा का महत्व

छठ पर्व की पूजा में भगवान सूर्य देव और छठी मैया की पूजा-अर्चना की जाती है। इसे षष्ठी माता भी कहा जाता है। यह व्रत महिलाएं अपनी संतान की अच्छी सेहत और दीर्घायु के लिए तथा अपने पति की लंबी आयु हेतु करती हैं।

एक मान्यता के अनुसार छठ व्रत करने से संतान सुख की प्राप्ति भी होती है। इस व्रत को करने से छठी मैया नि:संतान दंपति की गोद भर देती हैं।

FAQ:-पोस्ट से संबंधित प्रश्न-उत्तर

(1) पहली बार छठ पूजा कैसे करें?

उत्तर:-  छठ पर्व की शुरुआत नहाए-खाए से होती है। इस दिन चावल और लौकी की सब्जी बनाकर खाया जाता है। इसके अगले दिन खरना किया जाता है। खरना के दिन गुड़ और चावल के खीर बनाई जाती है। इस खीर को खाने के पश्चात 36 घंटे का उपवास व्रत शुरू होता है। तीसरे दिन शाम को डूबते हुए सूर्य को अर्ध अर्पित किया जाता है। चौथे दिन उगते हुए सूर्य को अर्ध्य अर्पित कर पारण और प्रसाद वितरित किया जाता है। इस प्रकार से छठ महापर्व का समापन हो जाता है।

(2). छठ पूजा करने की विधि क्या है?

उत्तर:-प्रथम दिन संध्याकालीन अर्ध्य होता है,जिसमें डूबते हुए सूर्य को अर्ध्य दिया जाता है। इस दिन सभी व्रती अपने सदस्यों के साथ छठ घाट पर जाते हैं, और वहां नदी तालाब में स्नान करके सूर्य भगवान और छठी मैया को अर्ध्य अर्पित करते हैं। फिर दूसरे दिन सुबह में छठ घाट पर जाकर उगते हुए सूर्य भगवान और छठी मैया को अर्ध्य अर्पित करते हैं, तथा पारण और अपने परिवार के सदस्यों तथा अन्य लोगों को भी प्रसाद वितरित करते हैं।

(3). अपने घर में छठ पूजा कैसे करें?

उत्तर:-अपने घर पर पूजा करने से पहले आपको यह ध्यान देना चाहिए कि, आप जिस भी जगह पर पूजा करना चाहते हैं, वह साफ हो तथा इसके पश्चात आप सब पूजा की सभी सामग्रियों को एकत्रित करके रख लीजिए ।इसके पश्चात आपको छठ माता की पूजा करनी चाहिए। फिर सूरज को अर्घ्य देने के लिए आप अपनी छत पर ही छोटे बच्चों के लिए उपयोग होने वाला स्विमिंग पूल का इस्तेमाल कर सकते हैं।

(4). छठ पूजा में क्या-क्या खाया जाता है?

उत्तर:- छठ पूजा में सभी अपने घर की साफ सफाई करके पहले दिन यानी नहाए खाए की परंपरा निभाते हैं। इस दिन शाकाहारी भोजन करने की परंपरा सदियों से चली आ रही है। इस पूजा में लोग नहाए खाए के दिन कद्दू चना का सब्जी और चावल खाते हैं। इस पूजा के दौरान 36 घंटे का व्रत रखा जाता है। खरना के दिन गुड़ की खीर बनाकर खाई जाती है।

(5) छठ पूजा में कौन-कौन सा फल चढ़ाया जाता है?

उत्तर:- छठ पूजा में सभी मौसमी फलों को चढ़ाने की परंपरा सदियों से चली आ रही है। इस पूजा में नींबू और सिंघाड़े को भी चढ़ाया जाता है। नींबू एक खट्टा फल माना जाता है। इसलिए इसे चढ़ाने का विशेष महत्व होता है। मैं आपको बता दूं कि सिंघाड़ा पानी में उगने वाला एक फल होता है। इस फल को चढ़ाने से छठी मैया परिवार में सुख शांति प्रदान करती है। गन्ने को भी इस पूजा में चढ़ाने का विशेष महत्व माना जाता है।

उम्मीद है कि यह पोस्ट आपको अच्छी लगी होगी। ऐसी और जानकारी हासिल करने के लिए इस वेबसाइट को सब्सक्राइब कर लें और टेलीग्राम जॉइन आइकन पर भी क्लिक कर ग्रुप से जुड़ जाएं। इस पोस्ट को अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ अवश्य शेयर करें।

अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद।💐💐

Read also:-

Chhath Puja kyu manaya jata hai: छठ पूजा क्यों मनाया जाता है

chhath puja wishes in hindi 2023: छठ पूजा की हार्दिक शुभकामनाएं/ शायरी / कोट्स हिंदी में हिन्दी में

Chhath Puja ki hardik shubhkamnaye : छठ पूजा की ‌हार्दिक शुभकामनाएं , छठ महापर्व के शुभ अवसर पर दोस्तों और रिश्तेदारों को भेजें शुभकामना संदेश

Tiger 3 collection worldwide: टाइगर 3 कलेक्शन वर्ल्डवाइड, वर्ल्ड वाइड सलमान खान ने लगाई दहाड़, दूनिया भर में ‘टाइगर 3’ की हुई चांदी

Lakshmi ji ki aarti in hindi, Laxmi ji ki aarti, Om Jai Laxmi Mata lyrics in hindi : लक्ष्मी जी की आरती हिंदी में

APJ abdul kalam thought in hindi: डॉ एपीजे अब्दुल कलाम आजाद के महान प्रेरणादायक विचार

bharat ke sanvidhan nirman ki prakriya ko samjhaie | भारतीय संविधान का निर्माण प्रक्रिया को समझाइए

Diwali par nibandh in hindi | दीपावली पर निबंध हिंदी में Class 1 से 10 तक के लिए यहाँ देखें

Fundamental duties in hindi |मौलिक कर्तव्य कितने हैं? इसके बारे में विस्तार से जानकारी हासिल करें

 

1 thought on “chhath puja samagri list 2023 : छठ पूजा सामग्री लिस्ट देख लें,कहीं कुछ छूट न जाए”

Leave a Reply

Discover more from teckhappylife.com

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading