Dhanteras 2023 date and time: धनतेरस कब है 2023/धनतेरस शुभ मुहूर्त

Dhanteras 2023 date and time क्या है? जानें इस पोस्ट में धनतेरस से संबंधित विस्तृत जानकारी। इस दिन की जाती है, कुबेर भगवान, माता लक्ष्मी और प्रथम पूज्य गणेश की विशेष पूजा अर्चना और प्राप्त की जाती है, इनकी विशेष आशीर्वाद।

इस पोस्ट में आप जानेंगे कि धनतेरस 2023 को किस प्रकार से पूजा करना चाहिए। पूजा सामग्री क्या होती है? लक्ष्मी पूजन का शुभ मुहूर्त क्या है? इसलिए इस पोस्ट को अंत तक अवश्य पढ़ें।

दोस्तों, इस वर्ष धनतेरस का त्योहार 10 नवंबर को मनाई जाएगी। इस दिन धनतेरस का विशेष पूजा- अर्चना किया जाता है। इसलिए पूजा का शुभ मुहूर्त के बारे में जानकारी होना आवश्यक हो जाता हैं।

धनतेरस पूजा का शुभ मुहूर्त क्या है?

✓धनतेरस पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 5:45 से लेकर 7:43 तक रहेगा। 

आपको जानकारी होगी कि दिवाली का त्यौहार 5  दिनों  तक चलता है।इस वर्ष यह पर्व 10 नवंबर से 15 नवंबर तक चलेगा।

पांच दिनों तक चलने वाले दिवाली के त्यौहार का सूची निम्नलिखित है:-

✓10 नवंबर :- धनतेरस,

✓11 नवंबर:-  छोटी दिवाली,

✓12 नवंबर:- दिवाली ,

✓14 नवंबर:-  गोवर्धन पूजा ,और

✓15 नवंबर:-   भाई दूज

इस पर्व का पहला दिन यानी कि धनतेरस विशेष खरीदारी के लिए जाना जाता है। मान्यताओं के अनुसार इस दिन सोना, चांदी, पीतल, झाड़ू और धनिया के बीज की खरीदारी करने से घर में सुख-समृद्धि का आगमन होता है। 

धनतेरस के दिन सोना खरीदने का शुभ मुहूर्त

धनतेरस मनाने का समय 10 नवंबर को 12:35 PM से शुरू हो रहा है। यह 11 नवंबर को 1:45 PM पर समाप्त हो जाएगा। इस दौरान आप सोने की खरीदारी कर सकते हैं। इस समय पर सोने की आभूषण की खरीदारी करना बहुत ही शुभ माना गया है।

Dhanteras Pooja Vidhi

•  इस दिन हमें प्रातः काल स्नान करके मंदिर के सामने आसन पर बैठना चाहिए।

• फिर अपने बाएं हाथ में जल लेकर खुद पर और अपने आसपास छिड़काव करना चाहिए।

• इसके पश्चात एक चौकी पर लाल कपड़ा बिछाकर कुबेर देव को स्थापित करना चाहिए।

• आप कुबेर देव की तस्वीर को भी चौकी पर विराजित कर सकते हैं।

• इसके पश्चात कुमकुम से लाल कपड़े पर स्वास्तिक का चिन्ह बना लेना चाहिए। फिर अक्षत फूल और फल अर्पित करना चाहिए।

• कुबेर देव को मौली यानी कि कलवा वस्त्र के रूप में अर्पित करना चाहिए तथा श्रद्धा और क्षमता अनुसार आभूषण भी अर्पित करना चाहिए।

• यदि आपके पास आभूषण नहीं है, तो आप नारियल भी चढ़ा सकते हैं।

• कुबेर देव को कमल के पुष्प या कमल गट्टा अर्पित करना चाहिए।

• इस दिन कुबेर देव के समक्ष धूप दीप नैवेद्य आदि चढ़ाना चाहिए।

• कुबेर देव को मिष्ठान का भोग लगाएं।

• फिर कुबेर देव के मंत्रों का जाप कर के आरती उतारे तथा भोग को प्रसाद के रूप में खुद पाएं और सभी लोगों में वितरित भी करें।

Read it:-

dhanteras ki hardik shubhkamnaye:धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएं

धनतेरस 2023 पूजा का शुभ मुहूर्त

✓प्रदोष काल :-  शाम 5:46 से रात्रि 8:25 तक।

✓ वृषभ लग्न मुहूर्त :- शाम 6:08 से रात्रि 8:05 तक।

✓दीपदान के लिए शुभ मुहूर्त :- शाम 5:46 से लेकर रात्रि 8:26 तक।

धनतेरस पूजा सामग्री

✓एक चौकी,

✓चौकी पर बिछाने के लिए लाल कपड़ा ,

✓स्वास्तिक बनाने के लिए अक्षत या आटा,

✓गंगाजल,

✓माता लक्ष्मी, गणेश जी, भगवान कुबेर, धनवंतरी और यमराज जी की तस्वीर या मूर्ति ,

✓पूजा की एक थाली,

✓सुपारी, कुबेर यंत्र, कलश,

✓मौली या कलवा,

✓मिट्टी के बड़े दीपक ,

✓सरसों का तेल, 13 मिट्टी के दीपक,

✓ कौड़ी, सिक्का, चंदन ,कुमकुम ,

✓ हल्दी, अक्षत, रोली या अबीर,

✓गुलाल, लाल और पीले पुष्प,

✓पुष्प माला, धूप, अगरबत्ती,

✓चढ़ावा (इसमें खिल, बताशा, धनिया के बीज, नए बर्तन, नई झाड़ू इत्यादि चीज शामिल है )

✓फल, मिठाई, तांबूल (पान लौंग सुपारी इलायची)

✓क्षमता अनुसार दक्षिणा, कपूर आदि।

Read it:-

Diwali 2023 kab hai: 12 या 13 नवंबर, कब है दिवाली? जानें सही तिथि, शुभ मुहूर्त तथा माता लक्ष्मी को प्रसन्न करने का संपूर्ण विधि- विधान

धनतेरस पर क्यों खरीदा जाता है सोना-चांदी?

हिंदू मान्यताओं के अनुसार मां देवी लक्ष्मी को धन की देवी भी कहा जाता है। धन प्रदान करने आय के अवसर बढ़ाने, व्यावसायिक संभावनाओं और सफलता के लिए धनतेरस के दिन भगवान धन्वंतरि के साथ मां लक्ष्मी घर आती हैं।

सोना और अन्य कीमती धातुओं को शुभ और सौभाग्य तथा धन लाने वाली मानी जाती है ।इसलिए धनतेरस के दिन सोना और चांदी खरीदने की बहुत पुराने समय से परंपरा रही है ।दीपावली जिसे रोशनी के त्यौहार भी कहा जाता है।

यह त्यौहार भारत में बहुत ही व्यापक रूप से मनाई जाती है। इस दिन माता लक्ष्मी और प्रथम पूज्य गणेश भगवान की विशेष पूजा अर्चना की जाती है। घरों को दीपों और रंगोलियों से सजाए जाते हैं ।स्वादिष्ट मिठाइयां खाई जाती है। एवं नए पारंपरिक कपड़े पहनने का प्रचलन भी है।

धनतेरस के दिन कब करें खरीदारी

इस वर्ष खरीदारी के लिए धनतेरस के दिन दोपहर से शाम तक शुभ समय रह रहा है ।विशेषकर दोपहर 12:56 से लेकर 2:06 तक और शाम में 4:16 से 5:26 तक श्रेष्ठतम समय रहेगा।

धनतेरस पर खरीदारी का महत्व

धनतेरस के दिन शुभ मुहूर्त में बर्तन और सोने चांदी के अलावे वाहन, लग्जरी चीजें, जमीन जायदाद के सौदे और घर में काम आने वाले अन्य दूसरी वस्तुओं की खरीदारी करना बहुत ही शुभ माना जाता है।

हिंदू मान्यताओं के अनुसार धनतेरस के दिन शुभ मुहूर्त में खरीदी गई चल-अचल संपत्ति में 13 गुना वृद्धि होती है। इस दिन विशेष खरीदारी की जाती है।

Dhanteras 2023 date and time

धनतेरस पर जरूर खरीदें यह चीज

यदि आप धनतेरस के दिन सोना-चांदी या आभूषण नहीं खरीद सकते हैं, तो धनिया के बीज अवश्य खरीदें। मान्यता के अनुसार इस दिन धनिया का बीज अवश्य खरीदना चाहिए।क्योंकि धन की देवी माता लक्ष्मी को धनिया का बीज बहुत पसंद आता है।

इसलिए यदि आप धनतेरस के दिन धनिया का बीज अपने घर खरीद कर लाते हैं ,और माता को समर्पित करते हैं, तो आपके जीवन में धन-धान्य की कभी कमी नहीं होगी।

आपके घर में सुख शांति समृद्धि बनी रहेगी। धनतेरस पर माता को चढ़ाए गए धनिया के कुछ बीजों को बो देना चाहिए और कुछ बीजों को अपनी तिजोरी में रखना चाहिए।

धनतेरस के दिन कितनें दीपक जलाना चाहिए?

मान्यता के अनुसार धनतेरस के दिन तेरह दीपक जलाना अत्यंत शुभ माना जाता है। कहा जाता है कि इस दिन तेरह दीपक जलाने से घर परिवार में खुशहाली बनी रहती है।

इस दिन तेरह दीपक अलग-अलग जगहों पर जलाने चाहिए। इस दिन एक दीपक यमराज के नाम से भी जलाना चाहिए।

धनतेरस के दिन एक जरूरी काम करना ना भूले

झाड़ू को लक्ष्मी प्राप्ति कल्पों में से एक बहुत ही ज़रूरी सामग्री माना जाता है। इसलिए धनतेरस तथा दीपावली के दिन झाड़ू खरीदने की परंपरा सदियों से चलती आ रही है।

इस दिन नई झाड़ू को खरीद कर उसकी पूजा किया जाता है। इस दिन झाड़ू खरीदते समय इस बात का विशेष ध्यान देना चाहिए, कि यह विषम संख्या में ही खरीदी जा रही हो।

यानी की 1, 3, 5, 7, 9 ,11 संख्या में होनी चाहिए। इस संख्या में झाड़ू खरीदना विशेष फलदायक माना जाता है।

दोस्तों, उम्मीद है कि यह पोस्ट आपको अच्छी लगी होगी। ऐसी और जानकारी हासिल करने के लिए इस वेबसाइट को सब्सक्राइब कर लें, और टेलीग्राम जॉइन आइकॉन पर भी क्लिक करके टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ जाएं।

अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद। 💐💐

Read it:-

Diwali essay in hindi: दीपावली पर निबंध – कक्षा 1से कक्षा 12 तक के बच्चों के लिए

Diwali par nibandh in hindi | दीपावली पर निबंध हिंदी में Class 1 से 10 तक के लिए यहाँ देखें

Durga puja 2023 kab hai| दुर्गा पूजा कब से शुरू यहां जाने इससे जुड़ी अहम जानकारियां

• bharat ke sanvidhan nirman ki prakriya ko samjhaie | भारतीय संविधान का निर्माण प्रक्रिया को समझाइए

 

Discover more from teckhappylife.com

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading