b. r. ambedkar education total degree in hindi : डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के पास कितनी डिग्री थी

दोस्तों ,आज इस b. r. ambedkar education total degree in hindi पोस्ट के माध्यम से एक ऐसे महान पुरुष के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे, जो 32 डिग्रियां एवं नौ भाषाओं के ज्ञाता थे तथा 8 साल की पढ़ाई 2 साल 3 महीने में ही पूरी कर ली थी। इसलिए इस पोस्ट को अंत तक अवश्य पढ़ें। यह पोस्ट आपके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण साबित हो सकता है।

bhimrao ramji ambedkar history hindi : डॉ भीमराव अंबेडकर की मृत्यु किसने की थी

दोस्तों, भारतीय संविधान के जनक एवं शोषितों के संरक्षक के नाम से प्रसिद्ध बाबा साहब भीमराव अंबेडकर का नाम तो आपने अवश्य सुना होगा। आज इस bhimrao ramji ambedkar history hindi पोस्ट के माध्यम से हम सब इनके बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करेंगे। इसलिए इस पोस्ट को अंत तक अवश्य पढ़ें।

babasaheb ambedkar : भीमराव अंबेडकर की मृत्यु कब और कैसे हुई

दोस्तों, शायद आपको भी यह जानकारी होगी कि भारतीय संविधान का पिता बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर को कहा जाता है। इनका जीवन बहुत ही संघर्षों से भरा हुआ था। आज इस babasaheb ambedkar पोस्ट के माध्यम से इनके मृत्यु से संबंधित जानकारी प्राप्त करेंगे। इसलिए पोस्ट को अंत तक अवश्य पढ़ें।

dr babasaheb ambedkar : डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की बचपन की कहानी

आइए अब जानते हैं वह किस्सा जब बाबा साहब (dr babasaheb ambedkar) को बचपन में तांगे वाले से भेदभाव के शिकार होकर भीमराव अंबेडकर को खुद हांकना पड़ा तांगा एवं पीना पड़ा रेतीला पानी

Bharat ke sabse pahle pradhanmantri kaun the : भारत के प्रथम प्रधानमंत्री कौन थे नाम बताइए

दोस्तों, आपको जानकारी होगी कि भारत देश गुलामी के जंजीरों में लगभग 200 वर्षों तक बंधा हुआ था। हमारे देश के वीर सपूतों के संघर्षों एवं बलिदानों के फलस्वरुप 15 अगस्त 1947 को भारत गुलामी के जंजीरों से बाहर निकाला। इसके पश्चात एक राजनीतिक व्यवस्था एवं संविधान का निर्माण किया गया। इस Bharat ke sabse pahle pradhanmantri kaun the  पोस्ट के माध्यम से आप जानेंगे कि भारत की आजादी मिलने के पश्चात प्रथम प्रधानमंत्री के पद पर कौन आसीन हुए थे।

Maulik kartavya kis bhag mein hai : मौलिक कर्तव्य का वर्णन कीजिए

दोस्तों ,आपको जानकारी होगी कि भारतीय संविधान के भाग 3 में मौलिक अधिकार दिया गया हैं तो वहीं भाग 4 (क) में मौलिक कर्तव्य भी दिए गए हैं। हम सभी को अपने अधिकारों के साथ-साथ कर्तव्यों की भी जानकारी होनी चाहिए ।आप इस (Maulik kartavya kis bhag mein hai : मौलिक कर्तव्य का वर्णन कीजिए ) पोस्ट के माध्यम से भारतीय नागरिक होने के नाते आपका क्या कर्तव्य है इसके बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

Maulik kartavya kya hai : मौलिक कर्तव्य किस देश से लिया गया है

दोस्तों, मूल भारतीय संविधान में प्रस्तावना ,395 अनुच्छेद ,8 अनुसूचियां एवं 22 भाग शामिल था। भारत के मूल संविधान में मौलिक कर्तव्यों को शामिल नहीं किया गया था। इसे बाद में संविधान संशोधन के द्वारा भारतीय संविधान में शामिल किया गया है। maulik kartavya kya hai पोस्ट के माध्यम से आप मौलिक कर्तव्यों से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। इसलिए इस पोस्ट को अंत तक अवश्य पढ़ें।

sanvidhan ki visheshtaen : संविधान की चार विशेषताएं लिखिए

दोस्तों, भारत में सभी कानून व्यवस्थाएं संविधान के अनुसार संचालित की जाती है। हमारे देश का सर्वोच्च विधान संविधान ही है। संविधान के ऊपर कोई नहीं है। भारतीय संविधान का निर्माण विश्व के सभी संविधानों के निचोड़ने के पश्चात किया गया है। इसलिए इसके तत्व बड़े ही अनुठे हैं।आप sanvidhan ki visheshtaen पोस्ट को पढ़कर भारतीय संविधान के विशेषताओं के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

Bhartiya sanvidhan ki visheshtaen bataiye : भारतीय संविधान की विशेषताएं नोट्स

दोस्तों, हमारे देश के संविधान का निर्माण विश्व के लगभग सभी महत्वपूर्ण देशों के संविधानों को पढ़ने के पश्चात किया गया है। हमारे देश का संविधान को जीवंत संविधान भी कहा जाता है। यह संविधान भारत की परिस्थितियों के अनुसार अपने आप को परिवर्तित करते रहता है।यदि आप भारत के संविधान के विशेषताओं के बारे में विस्तृत जानकारी पाना चाहते हैं तो इस Bhartiya sanvidhan ki visheshtaen bataiye पोस्ट को अंत तक अवश्य पढ़ें।

Bhartiya sanvidhan ki visheshtaon ka varnan kijiye : भारतीय संविधान की विशेषताएं

दोस्तों, भारत में संविधान ही सर्वोच्च विधान है। भारतीय संविधान 26 नवंबर 1949 को संविधान सभा द्वारा पारित हो गया था। 26 जनवरी 1950 को संपूर्ण रूप से लागू कर दिया गया था। यदि आप भारतीय संविधान के विशेषताओं के बारे में विशेष जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो इस Bhartiya sanvidhan ki visheshtaon ka varnan kijiye पोस्ट को अंत तक अवश्य पढ़ें।