Right to Education/ RTE / शिक्षा का अधिकार: आरटीई के तहत बच्चों को देना है निःशुल्क यूनिफॉर्म, किताबें और कॉपियां

दोस्तों,आर्थिक रूप से कमजोर परिवार के बच्चों को भी अच्छे स्कूलों में पढ़ने का औसत दिलाने हेतु सरकार द्वारा RTE ( Right to Education)/ शिक्षा का अधिकार योजना प्रारंभ की गई है।

शिक्षा के अधिकार योजना के तहत गरीब बच्चों को प्राइवेट स्कूलों में निःशुल्क शिक्षा के साथ-साथ कई प्रकार की अन्य सुविधाएं भी प्रदान की जाती है। यह योजना गरीब बच्चों के लिए सरकार द्वारा उठाया गया एक बेहतरीन कदम है।

इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको RTE Right to Education/ शिक्षा का अधिकार के तहत बच्चों को मिलने वाले सुविधाओं के बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करेंगे। इसलिए इस पोस्ट को अंत तक अवश्य पढ़ें।

Read it :-RCCMS Vaad UP Portal : मुकदमे का स्टेटस और तारीख, दैनिक वाद लिस्ट ऑनलाइन कैसे चेक करें

RTE (Right to Education) क्या है?

4 अगस्त 2009 को RTE ( Right to Education)/शिक्षा का अधिकार अधिनियम लाया गया। यह नियम 6 से 14 वर्ष तक के बच्चों के लिए मुक्त और अनिवार्य शिक्षा देने का प्रावधान करता है।

इस अधिनियम के द्वारा 6 से 14 वर्ष तक के बच्चों को मुक्त शिक्षा प्रदान करने की गारंटी देता है।इस अधिनियम को केवल सरकारी स्कूलों तक ही सीमित नहीं किया गया है, बल्कि इसके अंतर्गत प्राइवेट स्कूलों को भी शामिल किया गया है।

इस अधिनियम में प्रावधान किया गया है कि आर्थिक रूप से कमजोर परिवार से आने वाले ऐसे अभिभावक जो अपने बच्चों का एडमिशन प्राइवेट स्कूलों में करवाना चाहते हैं, तो वे आरटीआई के तहत बिल्कुल मुफ्त में एडमिशन करा सकते हैं।

ऐसे बच्चों की फीस सरकार स्वयं वहन करती है। देश के विभिन्न राज्यों में आरटीई के तहत प्राइवेट स्कूलों में एडमिशन देने हेतु विभिन्न नियम बनाए गए हैं। इस पोस्ट में आपको इस अधिनियम से संबंधित विस्तृत जानकारी प्राप्त होगी। इसलिए इसे अंत तक पढ़े।

Read it:-Mukhya Mantri Anudan Transformer Yojana 2023: मुख्य मंत्री अनुदान ट्रांसफार्मर योजना 2023, किसानों के लिए है अच्छी खबर, कब चालू होगी

आईए जानते हैं, आरटीई के तहत बच्चों को क्या-क्या फ्री में प्राप्त होता है:-

दोस्तों, शिक्षा के अधिकार अधिनियम के तहत प्राइवेट स्कूल में प्रवेश लेने वाले बच्चों के फीस राज्य सरकार के द्वारा वहन की जाती है। इसलिए ऐसे बच्चों को किसी भी तरह का कोई फीस देने की आवश्यकता नहीं पड़ती है।

RTE ( Right to Education) के तहत एडमिशन लेने वाले सभी बच्चों को निम्नलिखित सुविधाएं फ्री में प्राप्त होती है:-

✓एडमिशन फीस फ्री होती है।

✓स्कूल की मासिक फीस फ्री होती है

✓स्कूल द्वारा अतिरिक्त कक्षाएं या कोचिंग दी जा रही हैं तो वह भी नि:शुल्क मे प्राप्त होता है।

✓बच्चों को किसी भी तरह का परीक्षा शुल्क नहीं देना पड़ता है।

✓आरटीई के तहत एडमिशन लेने वाले बच्चों को किताबें भी फ्री में प्राप्त होती है।

✓बच्चों को गणवेश (स्कूल ड्रेस) भी फ्री में मिलती है।

कुछ राज्यों में सरकार किताब और ड्रेस के पैसे बच्चे या उसके अभिभावक के बैंक अकाउंट में भेज देती है, एवं स्कूल की फीस सीधे स्कूल के बैंक अकाउंट में भेजती है।

आरटीई के तहत प्राइवेट स्कूलों में एडमिशन लेने वाले बच्चों को ऊपर वर्णित सभी चीज फ्री में प्राप्त होता है यदि कोई स्कूल इन नियमों का पालन नहीं करता है तो आप उस स्कूल के बारे में शिकायत शिक्षा विभाग से कर सकते हैं।

Read it:-Bihar Desi Gaupalan Protsahan Yojana 2023 new apdate:गाय पालन योजना बिहार आनलाइन पूरी जानकारी व नई अपडेट
PM Aadhar Card Loan Yojana 2023: प्रधानमंत्री आधार कार्ड लोन योजना 2023 के तहत 10 हजार से 10 लाख तक का लोन पा सकते हैं। जाने कैसे

राइट टू एजुकेशन के तहत फ्री में एडमिशन कैसे मिलता है

Right to Education

भिन्न-भिन्न राज्यों में आरटीई के तहत निजी विद्यालयों में बच्चों को एडमिशन देने की प्रक्रिया भिन्न-भिन्न है। शिक्षा के अधिकार अधिनियम योजना के तहत आप अपने बच्चों का एडमिशन कक्षा 1 से 8 तक फ्री में करवा सकते हैं।

इसके लिए सत्र शुरू होने से पहले ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किए जाते हैं। प्राप्त आवेदनों के आधार पर प्राइवेट स्कूलों में आरटीई के तहत उपलब्ध सीटों पर एडमिशन कराया जा सकता है।

यदि आवेदनों की संख्या उपलब्ध सीटों से अधिक होती है, तो मेरिट या मौखिक परीक्षा के आधार पर बच्चों का एडमिशन किया जाता है।

Read it:-Education loan : एजुकेशन लोन कैसे मिलता है? इस लोन के लिए पात्रता और शर्तें क्या है? जानें
• 50,000 byaj har mahine kamayen |हर महीने 50000 ब्याज कमाने के लिए कितना जमा करना पड़ेगा

RTE (Right to Education) संबंधित प्रश्न-उत्तर

(1). आरटीई के लाभ क्या है?

उत्तर -आरटीई अधिनियम के अनुसार बच्चों को तब तक मुक्त और अनिवार्य शिक्षा का अधिकार प्राप्त होता है जब तक वह पड़ोस के किसी स्कूल में अपनी प्रारंभिक शिक्षा पूरी नहीं कर लेता है।यह बच्चों को नि:शुल्क शिक्षा प्राप्त करने का अधिकार प्रदान करता है।

(2) आरटीई के फायदे और नुकसान क्या है? बताइए।

उत्तर:-भारत में शिक्षक का अधिकार अधिनियम का एक फायदा यह है कि निजी स्कूलों को अपने 25% सिट वंचित समूह के बच्चों के लिए आरक्षित रखना पड़ता है। एक नुकसान यह है कि केवल प्रारंभिक शिक्षा पर ही यह अधिनियम लागू होता है।

(3). आरटीई का फुल फॉर्म क्या होता है?

उत्तर:- RTE का फुल फॉर्म Right to Education होता है।

(4).आरटीई की शुरुआत कब हुई थी?

उत्तर:-आरटीई को 4 अगस्त 2009 को लाया गया था।

(5). गरीब परिवार के बच्चे प्राइवेट स्कूल में एडमिशन ले सकते हैं?

उत्तर:- हां, आरटीई के तहत गरीब परिवार के बच्चे भी प्राइवेट स्कूलों में अपना एडमिशन नि:शुल्क करवा सकते हैं।

(6). RTE के तहत एडमिशन लेने वाले बच्चों को क्या-क्या फ्री में प्राप्त होता है?

उत्तर:- आरटीई के तहत एडमिशन लेने वाले बच्चों को स्कूल फीस के साथ-साथ किताबें और स्कूल ड्रेस भी फ्री में मिलता है।

(7). RTE के तहत कितने आयु के बच्चों को फ्री में एडमिशन मिलता हैं?

उत्तर:-आरटीई के तहत 6 से 14 वर्ष तक के बच्चों को फ्री में एडमिशन दी जाती है।

(8). RTE से सबसे ज्यादा फायदा किसे होगा और क्यों?

उत्तर:-RTE से सबसे ज्यादा फायदा 6 से 14 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों को प्राप्त होता है। क्योंकि इन बच्चों को मुक्त और अनिवार्य शिक्षा प्रदान करने का इसके तहत प्रावधान किया गया है। इस अधिनियम का उद्देश्य है, कि भारत में पारिवारिक आय, लिंग, जाति या पंथ की परवाह किए बिना प्रत्येक बच्चे को उचित शिक्षा प्रदान की जाए।

(9).RTE क्या है? इसमें शिक्षा के विकास में कैसे मदद की है?

उत्तर:-शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 या आरटीई अधिनियम 2009 भारतीय संसद के द्वारा 4 अगस्त 2009 को पारित किया गया था।भारतीय संविधान अनुच्छेद 21(ए) के अनुसार यह भारत में 6 से 14 वर्ष की आयु के बच्चों को मुक्त और अनिवार्य शिक्षा का‌ अधिकार देता है।

(10). स्कूलों में बच्चों के क्या अधिकार हैं?

उत्तर:-6 से 14 साल की उम्र के सभी बच्चों को निशुल्क और अनिवार्य प्रारंभिक शिक्षा का अधिकार प्राप्त (अनुच्छेद- 21ए) है। 14 साल की उम्र तक बच्चों को किसी भी खतरनाक रोजगार या काम से सुरक्षा का अधिकार दिया गया ( अनुच्छेद -24) है। उन्हें दुराचार से बचने और गरीबी के कारण अपनी उम्र की ताकत से ज्यादा बड़े काम करने की मजबूरी से बचने का अधिकार है ।(अनुच्छेद 39 ई)

दोस्तों, उम्मीद है कि यह पोस्ट आपको अच्छी लगी होगी। ऐसे ही और जानकारी हासिल करने के लिए इस वेबसाइट के साथ हमेशा बने रहे, और अपना सुझाव देते रहे।

अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद।💐💐

• Byaj par Paisa kaun deta hai|ब्याज पर पैसा कौन देता है, फ्रॉड से बचने के लिए जान ले इन नियमों के बारे में

• Loan payment:अगर नहीं चुका पा रहे हैं लोन तो न हों परेशान, यहां पढ़ें अपने ये अधिकार

 

Discover more from teckhappylife.com

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading