Sankashti Chaturthi today moon rise time 30 Nov 2023 : संकष्टी चतुर्थी चंद्रोदय टाइम टुडे,

Ganadhipa sankashti chaturthi के दिन एक उपाय करके आप पा सकते हैं, सुख समृद्धि तथा धन संपदा का वरदान। इस उपाय को करने से भगवान गणेश के असीम कृपा प्राप्त होगी। उपाय को जानने के लिए Sankashti Chaturthi today moon rise time 30 Nov 2023 post को पढ़ें। इस पोस्ट में इस उपाय के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई है।

दोस्तों, गणाधिप संकष्टी चतुर्थी व्रत के दिन गणेश भगवान जी की विशेष पूजा-अर्चना करने के साथ-साथ व्रत रखने का विधान है। पंचांग के अनुसार प्रत्येक मास के कृष्ण और शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि के दिन गणेश चतुर्थी का व्रत रखा जाता है।

ऐसे ही मार्गशीर्ष मास की कृष्ण पक्ष में आने वाली संकष्टी चतुर्थी को गणाधिप संकष्टी चतुर्थी व्रत के नाम से जाना जाता है। इस वर्ष यह व्रत 30 नवंबर 2023 को गणेश भगवान के भक्तों के द्वारा श्रद्धापूर्वक का रखा जाएगा।

गणेश चतुर्थी के दिन भगवान गणेश जी की पूजा-अर्चना करने से व्यक्ति के जीवन से हर प्रकार के संकटों का नाश हो जाता है, तथा सुख- शांति- समृद्धि का आगमन होता है।

ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक गणाधिप संकष्टी चतुर्थी के दिन कुछ खास उपाय किया जाए ,तो व्यक्ति के जीवन में सुख- समृद्धि, धन- संपदा, यश- कीर्ति  का आगमन हो सकता है।

इस उपाय को करने से व्यक्ति का जीवन खुशहाल हो सकता है। आज हम इस Sankashti Chaturthi today moon rise time 30 Nov 2023 पोस्ट में इसी उपाय के बारे में जानने वाले हैं। इसलिए इस पोस्ट को अंत तक अवश्य पढ़ें।

इसे भी पढ़ें:- Sankashti chaturthi 2023 date and time in hindi : संकष्टी चतुर्थी 2023 date and time , प्राप्त करें यहां विस्तृत जानकारी

तो आइए इस उपाय को जानने से पहले गणाधिप संकष्टी चतुर्थी 2023 का पूजा के शुभ मुहूर्त के बारे में जानकारी प्राप्त कर लेते हैं।

गणाधिप संकष्टी चतुर्थी 2023 पूजा का शुभ मुहूर्त ( Ganadhipa sankashti chaturthi 2023 puja ka subh muhurat)

चौघड़िया शुभ- उत्तम मुहूर्त :-  सुबह 6:55 से सुबह 8:14 तक

• लाभ- उन्नति मुहूर्त :-  दोपहर 12:10 से दोपहर 1:28 तक

• अमृत- सर्वोत्तम मुहुर्त :- दोपहर 1:28 से दोपहर 2: 47 तक

मार्गशीर्ष संकष्टी चतुर्थी 2023 चंद्रोदय समय ( Margashirsha Sankashti Chaturthi 2023 Moon Rise timing)

• गणाधिप संकष्टी चतुर्थी का व्रत चंद्र देव के उदय होने के पश्चात अर्ध्य दिया जाता है। इस व्रत में चंद्र देव को अर्ध्य अर्पित करना बेहद शुभ माना जाता है।

• चंद्र देव को अर्ध्य अर्पित करने के पश्चात ही संकष्टी चतुर्थी का व्रत सफल होता है।

• मार्गशीर्ष गणाधिप संकष्टी चतुर्थी के दिन रात्रि 7:55 पर चंद्र उदय होगा। इस दिन चंद्र देव को अर्ध अर्पित करने से मानसिक शांति की प्राप्ति होती है, तथा चंद्र दोष भी दूर होता है।

गणाधिप संकष्टी चतुर्थी के दिन चंद्र उदय का समय:- को शाम को 7:55 पर

इसे भी पढ़ें:- Sankashti Chaturthi Nov 2023 date and time in hindi : संकष्टी चतुर्थी 2023, इस पूजन विधि से शीघ्र प्राप्त होगी गणपति की आशीर्वाद

गणाधिप संकष्टी चतुर्थी के दिन करें ये खास उपाय ( Ganadhipa sankashti chaturthi 2023 Upay ) 

गणेश भगवान को दूर्वा अर्पित करें

• गणाधिप संकष्टी चतुर्थी के दिन गणेश भगवान को सच्ची श्रद्धा और भक्ति- भाव के साथ विधिवत पूजा अर्चना करना चाहिए।

• इस दिन पूजा के समय 11 जोड़ा दुर्गा गणेश भगवान को अवश्य अर्पित करें। दुर्वा चढ़ाते समय  ” इदं दूर्वा दलं ॐ गं गणपतये नमः ” मंत्र का जाप कीजिए।

गणेश जी को सिंदूर चढ़ाएं

• संकष्टी चतुर्थी के दिन गणेश भगवान को सिंदूर चढ़ाना अति शुभ माना जाता है। इस दिन गणेश भगवान को सिंदूर का तिलक अवश्य लगाएं ।

• सिंदूर चढ़ाते वक्त “सिंदूरं शोभनं रक्तं सौभाग्यं सुखवर्धनम। सुभदं कामदं चैव सिंदुरं प्रतिग्रह्मताम।ॐ गं गणपतये नमः” मंत्र का जाप कीजिए।

• संकष्टी चतुर्थी के दिन ऐसा करने से गणपति बप्पा अपने भक्तों पर कृपा दृष्टि का वर्षा कर सभी दुखों का नाश कर देते हैं, तथा सुख- शांति- समृद्धि का आशीर्वाद देते हैं।

शमी की पत्तियां चढ़ाएं 

• भगवान भोलेनाथ के साथ-साथ भगवान गणेश जी को भी शमी की पत्तियां अति प्रिय है।

• इसलिए गणाधिप संकष्टी चतुर्थी के शुभ अवसर पर इस दिन गणेश भगवान को शमी की पत्तियां अवश्य चढ़ाएं।

• इसके साथ ही शमी के पेड़ की पूजा करना भी अति शुभ माना जाता है।

श्री गणेश पंचरत्न स्त्रोत का पाठ करें

• गणाधिप संकष्टी चतुर्थी के दिन गणेश भगवान की सच्ची- श्रद्धा और भक्ति- भाव एवं विधि विधान के साथ पूजा-अर्चना करने के साथ ही श्री गणेश पंचरत्न स्त्रोत का पाठ भी करें।

• ऐसा करने से गणपति बप्पा की भक्तों को विशेष कृपा प्राप्त होती है।

इसे भी पढ़ें:- Sankashti Chaturthi vrat katha 2023 in hindi : संकष्टी चतुर्थी व्रत कथा इन हिंदी, संकष्टी चतुर्थी व्रत कथा पढ़ने/सुनने से होते हैं सारे कष्ट दूर

संकष्टी चतुर्थी के दिन गणपति पूजा का लाभ

• संकष्टी चतुर्थी का व्रत शादीशुदा महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र की कामना तथा सौभाग्य की प्राप्ति हेतु करती है।

• यह व्रत करने से महिलाओं को अपने जीवन साथी के साथ सुखमय जीवन व्यतीत होता है।

• इस व्रत को करने से आर्थिक संकट भी दूर होता है। तथा साथ ही संतान प्राप्ति की आशीर्वाद भी प्राप्त होता है।

• जिन दंपति को संतान सुख नहीं मिला है, उसे यह व्रत करना चाहिए। इससे भगवान गणेश प्रसन्न होकर पुत्र- रत्न प्राप्ति का आशीर्वाद देते हैं।

• वहीं इस व्रत को कुंवारी कन्याएं भी करती हैं। कुंवारी कन्याओं के द्वारा इस व्रत को करने से एक अच्छे जीवनसाथी मिलता है, तथा वैवाहिक जीवन खुशहाल रहता है।

• संकष्टी चतुर्थी व्रत के दिन कुंवारी कन्याएं दिनभर उपवास रखती हैं, तथा शाम को गणेश भगवान की पूजा-अर्चना कर व्रत खोलती हैं।

• संकष्टी चतुर्थी व्रत को सभी संकटों का हरण करने वाला तथा सुख- शांति- समृद्धि देने वाला भी कहा जाता हैं।

• यदि इस व्रत को सच्ची- श्रद्धा तथा भक्ति-भाव के साथ संपन्न किया जाए ,तो भगवान गणेश जल्दी प्रसन्न होते हैं।

• अपने भक्तों के जीवन के सभी संकटों का हरण कर सुख- शांति- समृद्धि, धन्य-धान्य, यश- कीर्ति आदि का आशीर्वाद देते हैं। इससे जीवन खुशहाल हो जाता है।

दोस्तों, उम्मीद है कि Sankashti Chaturthi today moon rise time 30 Nov 2023 post को पढ़कर आपको अच्छा लगा होगा। ऐसे ही और जानकारी हासिल करने के लिए इस वेबसाइट को सब्सक्राइब कर लें, तथा टेलीग्राम ग्रुप से भी जुड़ जाएं। इस पोस्ट को अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ अवश्य शेयर करें, ताकि उन्हें भी इस पोस्ट का लाभ मिल सके।

इसे भी पढ़ें:- Sankashti Chaturthi Chandrodaya time today 30 Nov 2023 : संकष्टी चतुर्थी चंद्रोदय टाइम टुडे , नोट करें शुभ मुहूर्त और चंद्रोदय टाइम

दोस्तों, मैं बताना चाहूंगी कि इस पोस्ट में दी गई धार्मिक संबंधित जानकारियां धार्मिक मान्यताओं और आस्थाओं पर आधारित है। इसलिए यह वेबसाइट किसी भी प्रकार की सत्यता की पुष्टि नहीं करता है। हमारा उद्देश्य पोस्ट के माध्यम से आप तक महज सूचना पहुंचना है। कुछ भी प्रयोग करने से पहले आप इससे संबंधित विशेषज्ञ से सलाह अवश्य लें।

अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद। 💐💐

इसे भी पढ़ें:- Chhath Puja kyu manaya jata hai: छठ पूजा क्यों मनाया जाता है

1 thought on “Sankashti Chaturthi today moon rise time 30 Nov 2023 : संकष्टी चतुर्थी चंद्रोदय टाइम टुडे,”

Leave a Reply

Discover more from teckhappylife.com

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading