Sanvidhan kise kahate hain : संविधान किसे कहते हैं

दोस्तों, किसी भी देश का सुचारु रूप से संचालन करने के लिए कुछ नियम व कानून होते हैं, इन्हीं नियमों और कानून के दस्तावेज को संविधान कहा जाता है।इस पोस्ट में के माध्यम से आज हम Sanvidhan kise kahate hain के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करेंगे। इसलिए इस पोस्ट को अंत तक अवश्य पढ़ें।

संविधान ( Constitution)

यदि आसान शब्दों में बात की जाए तो किसी भी देश का संविधान वह मौलिक कानून होता है, जो सरकार के विभिन्न अंगों के रूपरेखा, कार्य-निर्धारण एवं नागरिकों के हितों का संरक्षण करता है।

किसी भी देश को गणराज्य बनाने में संविधान की अग्रणीय भूमिका होती है। किसी देश के शासन व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने में संविधान की अहम योगदान होता है। संविधान के बिना किसी देश को सुचारू रूप से संचालित नहीं किया जा सकता है।

किसी देश के संविधान से ही मालूम चलता है, कि उस देश का शासन प्रणाली किस प्रकार का है? सरकार की व्यवस्था किस प्रकार से की गई है? किसके पास कौन सी शक्तियां है? कौन व्यक्ति कौन सा कार्य कर सकता है? या कौन व्यक्ति क्या नहीं कर सकता है?

कोई देश का संबंध धर्म के साथ किस प्रकार का है? वहां के लोगों के अधिकार कौन-कौन से हैं? शासन और शासित के बीच संबंध कैसा है।? इन सभी के बारे में जानकारी संविधान में ही दी गई होती है।

संविधान के माध्यम से ही सरकार का गठन किया जाता है, जो सरकार गठन होने के पश्चात अपने देश के कानून व्यवस्था को संविधान में किए गए प्रावधानों के अनुसार ही संचालित करता है।

एक उदाहरण के माध्यम से यदि समझा जाए तो:-

जैसे कि भारत राज्यों का एक संघ है। हमारे देश में सरकार की संसदीय प्रणाली की व्यवस्था की गई है। भारतीय संविधान में यह स्पष्ट वर्णन किया गया है, कि भारत एक संप्रभु समाजवादी धर्मनिरपेक्ष एवं लोकतांत्रिक गणराज्य है।

इस प्रकार यदि एक अन्य उदाहरण लिया जाए तो:-

जैसे की संयुक्त राज्य अमेरिका में सरकार की अध्यक्ष प्रणाली की व्यवस्था की गई है। संयुक्त राज्य अमेरिका में कार्यकारिणी को व्यवस्थापिका के प्रति उत्तरदायी नहीं बनाया गया है।

ऐसे ही किसी देश को संचालित करने के सभी नियमों और कानूनों को संविधान में ही सम्मिलित किया गया होता है।इसलिए कह सकते हैं कि किसी देश के कानून व्यवस्था को अच्छे तरीके से संचालित करने के लिए संविधान का होना बहुत आवश्यक होता है।

संविधान के प्रकार (Type of constitution)

संविधान दो प्रकार का होता है:- 

(1). लिखित संविधान एवं और

(2).अलिखित संविधान

• विश्व का प्रथम लिखित संविधान संयुक्त राज्य अमेरिका का है, एवं संसार का सबसे बड़ा लिखित संविधान हमारे देश अर्थात भारत का है।

• भारतीय संविधान सभा का अस्थाई अध्यक्ष के रूप में 9 दिसंबर 1946 को डॉक्टर सच्चिदानंद सिन्हा को नियुक्त किया गया था। इसके पश्चात डॉ राजेंद्र प्रसाद को संविधान सभा का अस्थाई अध्यक्ष के रूप में चुना गया।

भारतीय संविधान को निर्माण संविधान सभा के द्वारा किया गया था। 26 नवंबर 1949 को अंगीकृत कर लिया गया था। 26 जनवरी 1950 को पूर्ण रूप से संपूर्ण देश पर लागू कर दिया गया था।

लिखित संविधान किसे कहते हैं?

लिखित संविधान एक औपचारिक दस्तावेज होता है।, जो संवैधानिक समझौते की प्रकृति राजनीतिक व्यवस्था को नियंत्रित करने वाले नियमों एवं नागरिकों तथा सरकारों के अधिकारों को एक संहिताबद्ध रूप में परिभाषित करता है। लिखित संविधान का अधिकांश भाग लिखा हुआ होता है।

किसी देश का संविधान सर्वोच्च कानून होता है। इसलिए इसका उल्लंघन करने वाले को गैर संवैधानिक माना जाता है। इसलिए व्यक्तियों के अधिकार तदर्थ वैधानिक संरक्षण या सामान्य कानून के अंतर्गत न्यायिक सुरक्षा पर निर्भर रहते हैं

अलिखित संविधान किसे कहते हैं?

अलिखित संविधान उन विचारों, नियमों, लोक प्रथाओं, रीति रिवाज एवं परंपराओं के समूह को कहा जाता है, जिनसे किसी देश की शासन व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाई जाती है।

अलिखित संविधान में नियम या उनका मतलब स्पष्ट रूप में नहीं होता है। और ना ही कोई भी शासन संचालन व्यवस्था लिखी गई होती है

ब्रिटेन एक ऐसा देश है जिसका संविधान अलिखित है, एवं उस संविधान के केवल कुछ ही भाग लिखित रूप से विद्यमान है। ब्रिटिश का संविधान अलिखित होने के कारण वहां का संविधान का निरंतर परिवर्तित होते रहना है।

 FAQ :-पोस्ट से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर

(1). संविधान किसे कहते हैं और क्यों?

उत्तर:- संविधान किसी देश के शासन व्यवस्था को संचालित करने का नियम एवं कानून का समूह होता है। इन नियमों एवं कानून के समूह के दस्तावेज को संविधान के नाम से जाना जाता है। संविधान वह सत्ता है जो प्रकार का गठन करती है। संविधान का यह भी काम है कि समाज में निर्णय लेने की शक्ति किसके पास होगी संविधान के द्वारा ही यह तय किया जाता है, की सरकार का गठन किस प्रकार की जाएगी।

(2). संविधान के जनक कौन हैं?

उत्तर:- बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर को भारतीय संविधान का जनक के रूप में जाना जाता है। 29 अगस्त 1947 को संविधान सभा द्वारा एक मसौदा समिति का गठन किया गया था। इस समिति को प्रारूप समिति या ड्राफ्ट कमेटी के नाम से भी जाना जाता है। इस कमेटी के अध्यक्ष बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर ही थे।

(3).हमारे देश का संविधान किस भाषा में लिखा गया है?

उत्तर:- पांडुलिपि 26 नवंबर 1949 को पुरी हो गई थी, एवं 26 जनवरी 1950 को संपूर्ण भारत पर पूर्ण रूप से लागू कर दिया गया था। हमारे देश का संविधान दुनिया का सबसे लंबा एवं लिखित संविधान है या हिंदी और अंग्रेजी दोनों ही भाषाओं में लिखी गई है। भारतीय संविधान के लेखक बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर एवं बी एन राव थे।

(4). सबसे अच्छा संविधान किस देश का है?

उत्तर:- भारतीय संविधान के निर्माता के नाम से प्रसिद्ध बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर एवं अन्य संस्थापकों का भारतीय संविधान को तैयार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई गई है। भारत देश का संविधान सबसे अच्छा संविधान है इस संविधान को जीवंत दस्तावेजों वाला भी कहा जाता है क्योंकि यह संविधान परिस्थितियों के अनुसार परिवर्तित होते रहता है।

(5). 2023 तक भारतीय संविधान में कुल कितने बार संशोधन किए जा चुके हैं:- 

उत्तर :- वर्ष 1951 में पहली बार संविधान में संशोधन किया गया था।भारतीय संविधान में प्रावधान किए गए संशोधन के बारे में यदि जानना चाहते हैं, तो मैं बता दूं कि 2023 तक भारतीय संविधान में 127 संशोधन किए जा चुके हैं। भारतीय संविधान में तीन प्रकार के संशोधन का प्रावधान किया गया है।

दोस्तों, उम्मीद है कि यह Sanvidhan kise kahate hain पोस्ट आपको अच्छी लगी होगी।ऐसे ही और जानकारी हासिल करने के लिए इस वेबसाइट को सब्सक्राइब करें तथा टेलीग्राम ग्रुप से भी जुड़ जाएं। इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ अवश्य शेयर करें ताकि उन्हें भी इस‌ पोस्ट कल प्राप्त हो सके।

अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद। 💐🙏

Read also:- 

भारत का संविधान किसने लिखा और कितने दिनों में लिखा

1928 में भारत का संविधान किसने बनाया : Indian Constitution

 

9 thoughts on “Sanvidhan kise kahate hain : संविधान किसे कहते हैं”

Leave a Reply

Discover more from teckhappylife.com

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading