Shardiya navratri 2023: मां दुर्गा के आगमन से पहले घर में जरूर लाएं ये चीजें, प्रसन्न हो कर मां भर देंगी धन भंडार

Shardiya navratri 2023 : शारदीय नवरात्रि के समय मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा- आराधना की जाती है। नवरात्रि के दौरान सभी भक्त अपने-अपने तरीके से माता को प्रसन्न करने के लिए उनकी पूजा – आराधना करते हैं।
दोस्तों, कुछ ऐसी चीजें हैं, जिन्हें नवरात्रि पूजा के दौरान मां दुर्गा को समर्पित करना बहुत ही शुभ माना गया है।तो दोस्तों ,आइए विस्तार से इन वस्तुओं के बारे में जानकारी प्राप्त करें।

Shardiya Navratri 2023 Date: इस वर्ष शारदीय नवरात्रि रविवार 15 अक्टूबर से आरंभ होने वाली है। पूरे नवरात्रि में मां दुर्गा के नौ अलग-अलग रूपों की पूजा- अर्चना उनके भक्तों के द्वारा श्रद्धा पूर्वक संपन्न की जाती है।

मां दुर्गा की आराधना करने से माता अपने भक्तों के उपर काफी प्रसन्न हो जातीं हैं। माता के प्रसन्न होने के वजह से भक्तों के घर में सुख और समृद्धि बनी रहती है।

 नवरात्रि के दौरान माता दुर्गा को समर्पित किए जाने वाले कुछ ऐसी चीजें हैं, जिन्हें घर में लाने से मां का आशीर्वाद प्राप्त होता है।

तो आइए Shardiya navratri 2023 : पोस्ट में  विस्तार से जानकारी हासिल करते हैं ।इस पोस्ट से जानते हैं कि कौन-कौन सी वो चीजें हैं,जिन्हें नवरात्रि के दौरान अपने घरों में लाना शुभ माना जाता हैं।

 दोस्तों, आपको मालूम होगी कि नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। कई लोग इस समय अपने -अपने घरों में माता की प्रतिमा स्थापित करते है।

इस बार नवरात्रि में,यदि भक्त चाहें तो अपने घरों में मां दुर्गा की मूर्ति ला सकते हैं। इसके अतिरिक्त मां दुर्गा के पद चिह्न ला कर अपने घर के मंदिर में स्थापित कर सकते हैं।

इससे माता की कृपा उनके भक्तों पर हमेशा बनी रहती है । साथ ही व्यक्ति को जीवन में खूब सारी तरक्की भी  प्राप्त होती है ,और घर में सुख- शांति- समृद्धि आती है।

घर में लाएं कलश

हिंदू धर्म में अलग-अलग पूजा के अनुसार कलश का बहुत बड़ा महत्व बताया गया है। नवरात्रि के दौरान पहले दिन भक्त कलश की स्थापना करते हैं। इसलिए नवरात्रि में अपने घर मिट्टी, पीतल, सोना या फिर चांदी का कलश जरूर लेकर आएं, इसे लाना बहुत ही शुभ माना गया है।

लाल चंदन की माला है शुभ

 दोस्तों, आपको मालूम होगी कि नवरात्रि के दिनों में मां दुर्गा को लाल चंदन की माला अति प्रिय होती है।इससे भक्तगणों के द्वारा नवरात्रि में मां दुर्गा के मंत्रों का जाप भी किया जाता हैं।

इसलिए इस बार नवरात्रि में आप लाल चंदन की माला अपने घर जरूर लेकर आइए।ऐसा करने से मां दुर्गा का आप आशीर्वाद हमेशा बना रहेगा। माता के आशीर्वाद से आपके जीवन में धन-धान्य और ऐश्वर्य की प्राप्ति होगी। आपके घर में सुख शांति समृद्धि आएगी।

माता को चढ़ाएं इस रंग की चुनरी

मां दुर्गा को लाल चुनरी अतिप्रिय है। इसलिए नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा को लाल चुनरी अवश्य चढ़ाएं। आप यदि चाहें तो ,गुलाबी या फिर पीली रंग की चुनरी या साड़ी भी माता को अर्पण कर सकते हैं।

 ऐसा करने से मां दुर्गा प्रसन्न हो कर अपने भक्तों के उपर आशीर्वाद की वर्षा करती है। जिससे व्यक्ति के अच्छे दिन की शुरूआत हो जाती है। भक्तों के जीवन में खुशियों की वर्षात होती है।

किसका स्वरूप माने गए हैं नारियल और सुपारी, जानिए नवरात्रि पूजा में क्या है ? इनका महत्व

नवरात्रि के नौ दिनों में माता के भक्तगणों के द्वारा माता दुर्गा के नौ रूपों की पूजा-अर्चना और व्रत किया जाता है। नवरात्रि की पूजा में भक्त ,नारियल और सुपारी का भी मुख्य तौर से इस्तेमाल करते हैं।

कलश के जैसे ही नारियल और सुपारी भी नवरात्रि पूजन में बहुत ही महत्वपूर्ण होता है।तो,आइए जानते हैं कि नवरात्रि की पूजा में नारियल और सुपारी का क्या महत्व है?

नवरात्रि पूजन में नारियल और सुपारी का महत्व

Shardiya navratri 2023

नवरात्रि पूजन के समय कई पदार्थों का इस्तेमाल किया जाता है । सभी इस्तेमाल किए जाने वाले वस्तुओं का अपना-अपना महत्व बताया गया है। पूजा में इस्तेमाल किए जाने वाले सुपारी को गणेश जी का प्रतीक माना जाता है।

वहीं, पूजा में  उपयोग किए जाने वाले नारियल को माता लक्ष्मी का स्वरूप माना जाता है। धार्मिक  मान्यताओं को मानें तो, नवरात्रि की पूजा-अर्चना में इन दोनों चीजों का इस्तेमाल करने से, पूजा बिना किसी बाधा के सम्पन्न हो जाती है।

नवरात्रि पूजा में सुपारी का महत्व

 हिन्दू मान्यताओं के अनुसार पूजा समाप्त होने के पश्चात यदि आप पूजा की सुपारी को अपने पास रखते हैं ,तो आपको कई तरह के लाभ प्राप्त हो सकते हैं। यदि आप ऐसा करते हैं तो आपको धन की कमी का सामना नहीं करना पड़ेगा।

वहीं, नवरात्रि की पूजा-अर्चना करते समय सुपारी पर जनेऊ लपेटकर इसका उपयोग करना चाहिए। पूजा  हो जाने के पश्चात इस सुपारी को धन के स्थान पर रख देना चाहिए। यदि आप ऐसा करते हैं तो आपके घर में सुख-समृद्धि का वास होता है। आपको ढेर सारी खुशियां प्राप्त होगी।

नारियल रखने से मिलते हैं ये लाभ

नवरात्रि पूजन के दौरान एकाक्षी नारियल का उपयोग करना बहुत-ही शुभ और लाभदायक माना जाता है। एकाक्षी नारियल एक छिद्र वाला होता है। ऐसे नारियल और सुपारी श्रीफल भी कहा जाता है। 

मान्यताओं के अनुसार  जिस घर में नारियल की प्राण प्रतिष्ठा की जाती है ,उस घर में माता लक्ष्मी वास करती  है। साथ ही नवरात्रि पूजन के समय मां दुर्गा के समक्ष एकाक्षी नारियल रखकर उसकी पूजा-अर्चना करने से साधक के जीवन में सुख-समृद्धि आती है।

Shardiya Navratri 2023: नवरात्रि के दौरान इन वास्तु नियमों का रखें ध्यान, होगा माता रानी का आगमन

दोस्तों, आपको मालूम होगी कि नवरात्रि के नौ दिनों तक मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा- अर्चना की जाती है। नवरात्रि में यदि माता दुर्गा की मूर्ति को सही दिशा में स्थापित करने से व्यक्ति को माता रानी की विशेष कृपा मिलती है।

इस दिशा में स्थापित करें मां की मूर्ति 

वास्तु शास्त्र में हर चीज के लिए एक खास दिशा का निर्धारण किया गया है। इसी प्रकार ,वास्तु शास्त्र में नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा की मूर्ति को स्थापित करने की सही दिशा के बारे में भी बताई गई है। माता दुर्गा की मूर्ति को स्थापित करने के लिए घर के ईशान कोण  अर्थात् उत्तर-पूर्व दिशा को सर्वोत्तम बताया गया है। वास्तु शास्त्र के अनुसार यही दिशा उत्तम होता है 

इस दिशा में स्थापित करें कलश

 नवरात्रि के पहले दिन घर के मुख्य द्वार के दोनों ओर चुना और हल्दी से स्वास्तिक बनाने चाहिए। ईशान कोण में (उत्तर और पूर्व के बीच की दिशा) देवी-देवताओं के लिए सर्वोत्तम स्थान माना जाता  है। इसलिए मां की प्रतिमा या तस्वीर को स्थापित करने के साथ-साथ कलश की स्थापना भी घर के ईशान कोण में ही करें।

अखंड ज्योत की सही दिशा

मान्यताओं के अनुसार नवरात्रि के दौरान अखंड ज्योत जलाने से व्यक्ति की सारी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं। इसलिए ,यदि आप शारदीय नवरात्रि के दौरान अखंड ज्योति प्रज्जवलित कर रहे हैं, तो दीपक को घर के आग्नेय कोण में रखें।

 वास्तु शास्त्र के अनुसार घर की यह दिशा अग्नि का प्रतिनिधित्व करती है, साथ ही यह भी माना जाता है कि आग्नेय कोण में अखंड ज्योति जलाने से शत्रुओं का नाश हो जाता है,और विजय की प्राप्ति होती है।

पूजा के समय रखें दिशा का ध्यान

वास्तु शास्त्र की मानें तो पूजा करते समय व्यक्ति का मुख पूर्व या उत्तर दिशा की ओर होना चाहिए, क्योंकि वास्तु शास्त्र के अनुसार इस दिशा को शक्ति और शौर्य का प्रतीक माना गया है।

इसलिए इस दिशा की ओर मुख करके पूजा करने से साधक के मान-सम्मान में वृद्धि होती है। इसके साथ ही मां दुर्गा की मूर्ति के ठीक पीछे दुर्गा बीज यंत्र की स्थापना भी अवश्य करना चाहिए।

डिसक्लेमर:- ‘इस पोस्ट में  दिए गए किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है।यह विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित करके इस वेबसाइट पर पोस्ट के माध्यम से जानकारियां आप तक पहुंचाई जाती हैं। इस पोस्ट को लिखने का हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है। इसलिए उपयोगकर्ता भी इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही होगी।

उम्मीद है कि यह पोस्ट आपको पसंद आई होगी और ऐसे ही जानकारीयां ग्रहण करने के लिए इस वेबसाइट के साथ हमेशा बने रहे।

अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद। 💐💐

Navratri 2023 : नवरात्रि में करते हैं सप्तशती का पाठ तो इन नियमों का रखें ध्यान

Navratri 2023 kab hai : जाने कलश स्थापना का शुभ

Durga ashtami 2023

Shardiya purnima 2023: शरद पूर्णिमा पर पड़ा चंद्र ग्रहण का साया आसमान से नहीं बरसेगा अमृत

Surya grahan 2023 in India date and time

Chandra grahan 2023 in India date and time

 

1 thought on “Shardiya navratri 2023: मां दुर्गा के आगमन से पहले घर में जरूर लाएं ये चीजें, प्रसन्न हो कर मां भर देंगी धन भंडार”

Leave a Reply

Discover more from teckhappylife.com

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading